Thursday, June 9, 2016

विवाह परामर्श की आवश्यकता

ये तो हम सब ही कहीं ना कहीं महसूस कर रहे हैं कि विवाह नामक संस्था हमारे यहां एक बड़े परिवर्तन के दौर से गुजर रही है और पति—पत्नी के रिश्ते कभी कभी इतनी नाजुक स्थिति में पहुंच जाते हैं जहां से उनको वापस पटरी पर लाना मुश्किल जान पड़ता है । हालांकि विवाद की जड़ में जाया जाए तो सभी नहीं पर अधिकांश मामलों में ये वजहें बहुत ही छोटी होती हैं और जैसे किसी छोटी बीमारी की स्थिति में उसके प्रति लापरवाही बरतने से वो लंबे समय में बड़ी बन जाती है और उसका इलाज भी मुश्किल हो जाता है वैसा ही हाल इन मामलों में पाया जाता है।


वकालत के पेशे में होने के कारण मेरा दिन—प्रतिदिन का अनुभव है कि बदलते सामाजिक—आर्थिक माहौल, एकल परिवार, अत्यधिक व्यस्तता और समय की कमी एवं बहुत सी छोटी छोटी बातें पति पत्नी के संबंधों को बेवजह अदालत के दरवाजे पर ला खड़ा कर देती हैं। अधिकांश मामलों में ऐसे विवादों की दिशा इस बात पर भी निर्भर करती है कि आसपास के लोग मामले में किस प्रकार से दखल दे रहे हैं अर्थात मामले के प्रति उनका सकारात्मक या नकारात्मक रुख मामले की दिशा तय करता है।

आजकल ये भी बहस का विषय है कि विवाह और दहेज कानून इस प्रकार के हैं कि उनका बड़े पैमाने पर दुरुपयोग भी हो रहा है इसका दूसरा पक्ष यह भी है वास्तविक पीड़ितों की संख्या भी अच्छी खासी है। ऐसे में कानून से जुड़े लोगों की जिम्मेदारी भी बढ जाती है चाहे वह पुलिस हो या वकील अथवा न्यायाधीश। हमारा फैमिली कोर्ट एक्ट भी कहता है कि परिवार न्यायालय का यह कर्तव्य है कि यदि मामले की परिस्थितियों में ऐसा संभव है तो वह सबसे पहले पक्षकारों में समझौता कराने का प्रयास करे।

ऐसी परिस्थितियों में आवश्यकता है इस बात की कि पति अथवा पत्नी या दोनों ही एक साथ जिस व्यक्ति या फोरम के समक्ष अपनी पीड़ा जाहिर करते हैं वह चाहे कोई करीबी व्यक्ति हो अथवा कोई सामाजिक कार्यकर्ता हो, वकील हो या पुलिस अधिकारी और न्यायाधीश, उनको बहुत समझदारी से देखना होगा कि पीड़ित के हित को देखते हुए उसके वैवाहिक जीवन को बचाये रखने के लिए क्या कदम उठाने चाहिए साथ ही यदि कोई कानूनी कदम उठाया जाना जरूरी हो गया है तो वह क्या हो? क्योंकि अक्सर जल्दबाजी में या किसी की सलाह पर उठाये गये कानूनी कदमों के परिणाम बाद में भयानक होते हैं। इसलिए दोनों ही स्थितियों में चाहे मामला आपसी सुलह से निपट सकता हो अथवा कानूनी कदम उठाना जरूरी लग रहा हो, कदम उठाने से पहले इस क्षेत्र से संबंधित किसी अनुभवी व्यक्ति की सलाह को जरूर अमल में लायें ताकि अनजाने में हुई गलतियों को बेवजह ना भुगतना पड़े।

हमारे देश में अभी इस विषय से संबंधित विशेषज्ञों की बेहद कमी है और प्रत्येक मामले में केवल कानून ही स्थायी समाधान प्रदान नहीं कर सकता है। इसलिए विशेषज्ञ के लिए आवश्यक है कि वह इस समस्या के केवल कानूनी पहलू को ही ना समझे बल्कि उसे सामाजिक, आर्थिक और मनोवैज्ञानिक पहलुओं को भी समझे और उसके अनुरूप लोगों की मदद करे।

इस ब्लॉग का उददेश्य है कि इस प्रकार की समस्याओं पर जानकारी प्रदान करने और उसके कानूनी पहलुओं से लोगों को अवगत कराने और यदि आवश्यक हो तो उनकी काउंसलिंग करने के लिए एक आॅनलाइन मंच उपलब्ध कराना। साथ ही विवाह पूर्व काउंसलिंग या प्री मैरिटल काउंसिलिंग भी एक ऐसा विषय है जिसके बारे में हमारे समाज में जागरूकता की जरूरत है। विवाह से पहले मनोवैज्ञानिक रूप से इसके लिए खुद को तैयार करने और मैरिज लाइफ को खुशहाल और आनंदपूर्वक जीने के लिए आवश्यक रवैये को अपनाने के लिये यह महत्वपूर्ण है। यह ब्लॉग प्रयास है इन विषयों पर हिन्दी में अधिक से अधिक जानकारी उपलब्ध कराना और लोगों की निजी शादीशुदा जिंदगी की समस्याओं का समाधान करने में मार्गदर्शन करना।

image source: https://islamgreatreligion.wordpress.com/2009/

3 comments:

  1. Bahut khoob... kafi upyogi jankari hai.

    ReplyDelete
  2. Meri umra 41 sal hai shadi ko sirf 2 saal hi hue hai...ek ladka hai ek sal ka...meri joint family hai ghar me mai hi sabse chhota hu..ghar me maa pitaji bada bhai bhabhi aur meri badi didi jo vidhva hai ..meri badi bahan mujhe maa se kam nahi hai..use meri behad fikra rahti hai ..mera bahot dhyan rakhti hai mujhe apne bachcha hi samjhti hai..ek bahan ki abhi shadi hui hai banglore me di hai..ghar me mai hi karta dharta hu.. yane mai hi dukan aur ghar ki jimmedari dekhta hu..mujhe koi bhi vyasan buri aadat nahi hai...bhai thoda sa mand ho gaya hai.. yane uska psychologist k pass treatment chal raha hai.. usse ham koi kam nahi karewate...bhai ki shadi ho chuki hai use bhi ek ladka hai . ....bibi jyada padhi likhi hai..lekin samjhdar bilkul bhi nahi hai ..gussail aor ghamandi hai..mujhse to pyar karti hai lekin meri bahan aur meri ma se behad nafrat karti hai...karan kuchh bhi nahi lekin fir bhi nafrat jari hai...ghar me kisi bhi chis ki kami nahi hai...mai bhi patni ko pyar karta hu..lekin kabhi kabhi bahan aor ma k khilaf kaam k silsile me unhe kosne par mai use bura bhala kahta tha lekin sab thik chal raha tha...mai puchhta ki tujhe aor mujhe yahi jab rahna hai ghar me sabke sath to roj roj ye kirkiri kyo karti ho tu akeli to nahi karti na.. ghar ka kaam bhabhi hai didi hai wo bhi to karte hai ..ghar me kam wali hai bartan jhadu pochha safsafai k lie..kuch din thik rahti fir mere gussa karne ya samjhane par thode din thik rahti fir kirkiri karti...yah sab chal hi raha tha...maine kabhi ghar walo ko uske bare me kabhi nahi bataya..shanti rakhna chahta tha mai ghar me.. bete me meri jaan bas gaii hai...mayke ja kar aati hu kah kar gai ..lene jane pan aane se inkar kar diya puchne par pahle to mujhse tumhare ghar wale bahot kaam karwate hai mujhse itna kam nahi hota mai nahi aaungi...aor tumhari bahan mujh par bossing karti hai..mujhe sab sun kar bahot bura laga maine bhala bura kah kar wapas chala aaya...baad me bete ki yaad aane par fir mahine bhar k bad sasural gaya to uske maa baap ne bola ki tumhara tumhari bahan ke sath anaitik sambandh hoga isilie tumko bahan ki itni padi rahti hai wo tumhe bilkul akela nahi chhodti...islie ham nahi bhejenge..pahle hamare sawalo ka jawab do...ab aisa kahne par maine unhe bahot galiya di aor patni ko chhod diya aaj se..iski itni gandi soch hai to mujhe divorce chahie kah kar chala aaya. Itna gussa aaj tak mujhe nahi aaya jitna meri bibi aor sas sasur par aaya..unse itni nafrat ho gaii ki unhe rat din har pal har second dil me galiya deta raha kosta raha ...lekin mujhe aor mere ghar me sabhi ko yahi sab soch soch kar taklif ho rahi thi aor ho rahi hai maine bahot socha ki taklif kaise kam karu apni ...divorce de du to bachche ka kya hoga hamesha k lie mujhse wo dur chala jaega...ab meri umra bhi jyada hai dusri shadi kab hogi kaon dega ladki mujhe ..bahot depression aa chuka hai..thode din pahle saas k mobile par call kiya meri maa ne to usne wahi bahan ke bare me anaap shanaap baate ki..meri maa ne bhi unhe bahot galiya di ..aor divorce dene ki baat kahi...maine bhi galiya di..yahi sab soch kar mai pagal huaa ja raha hu ki mere saath hi aisa ajib sa kyo ho raha hai ..kya hal hai iska ye kaise niich logo se hamara sambandh huaa hai..kaisi ghatiya soch rakhte hai ye log bhai aor bahan k rishte me..aaj char 4 mahine ho gae hai koi contact nahi .patni ne apna mobile band kar rakha hai...mujhe mere bete ki behad yaad aati hai..mere bete ko paane k lie mai patni ko maaf karne k lie bhi taiyar hu ...lekin wo meri bahan se aor maa se maafi mangegi bhi ya nahi ye bhi mujhe nahi pata...uske ghar me koi bhi samajhdaar insan nahi ki wo use kuch samjhae...sab thirdclass mentality k log hai hala ki unche pad par uska bada bhai hai..wo bhi uski bato me aa gaya...mai to ab tut sa gaya hu...kya karu samajh nahi aa raha...meri bibi ki meri bahan aor ma k prati nafrat ne hi mera aor uska ghar jala diya ...mai bhi nafrat karne laga hu usse aor uske ghar walo se ...lekin mai mera ghar nahi jalana chahta ...kaise sab kuchh thik karu kya koi rasta hai..

    ReplyDelete